BIHAR NEWS/कोविड टीकाकरण पर जागरूक करने 75 ई रिक्शा को हरी झंडी दिखा किया गया रवाना - ETV BIHAR NEWS

Breaking

Followers

Friday, March 12, 2021

BIHAR NEWS/कोविड टीकाकरण पर जागरूक करने 75 ई रिक्शा को हरी झंडी दिखा किया गया रवाना



जिला के 75 विभिन्न वार्डों में टीकाकरण की जरूरत पर आमलोगों को दी जायेगी जानकारी

पटना। वैश्विक महामारी कोविड 19 संक्रमण से बचाव के लिए राज्य में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है. कोविड टीकाकरण के प्रति आम लोगों को जागरूक भी किया जा रहा है. कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में टीकाकरण अहम योगदान निभा रहा है. इसी कड़ी में शुक्रवार को राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यालय परिसर से 75 ई-रिक्शा वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया. इस मौके पर राज्य स्वास्थ्य समिति बिहार के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार, अपर कार्यपालक निदेशक अनिमेष कुमार पराशर, राजेश कुमार उप सचिव सह प्रभारी आईईसी समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे.

टीकाकरण के प्रति किया जायेगा जागरूक:
कोरोना टीकाकरण के प्रति जनमानस में जागरूकता लाने के लिए पटना जिले के सभी 75 वार्डों में ई-रिक्शा को रवाना किया गया है और यहां माइकिंग के माध्यम से लोगों को टीकाकरण की जरूरत पर जानकारी दी जायेगी. मालूम हो कि कोरोना महामारी से बचाव के लिए 16 जनवरी 2021 से टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। 1 मार्च से तृतीय चरण में 60 वर्ष या उससे ऊपर के नागरिकों एवं 45 से 59 वर्ष के वैसे नागरिकों का टीकाकरण किया जा रहा है जो किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित है.

दवाई भी और कड़ाई भी:

जिन कोरोना योद्धाओं को कोरोना टीका का पहला डोज लगाया गया है, उन्हें 28 दिन बाद दूसरा डोज दिया जाएगा. दूसरे डोज के 14 दिन बाद ही कोरोना के प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है. कोविड टीकाकरण के बाद भी सावधानी बरतनी जरूरी है. मास्क का इस्तेमाल, शारीरिक दूरी एवं हाथों की सफाई का विशेष ख्याल रखने की जरूरत है. प्रधानमंत्री ने भी टीकाकरण लॉच के दौरान दवाई भी और कड़ाई भी की बात पर जोर दिया है.


कोविड-19 वैक्सीन सभी के लिए सुरक्षित:

कोविड-19 से बचाव के लिए तैयार की गयी वैक्सीन को पूरी प्रक्रिया से गुजरने के बाद ही स्वीकृति प्रदान की गयी है. यह वैक्सीन सुरक्षित और असरदार है. चरणबद्ध तरीके से इसे सभी को उपलब्ध कराने की सरकार की योजना है. टीकाकरण के पश्चात लाभार्थी को किसी प्रकार की परेशानी के प्रबंधन के लिए सत्र स्थल पर एनाफ़लिसिस किट एवं एआईएफआई किट की पर्याप्त संख्या में उपलब्धता सुनिश्चित की गई है तथा इस संबंध में टीका कर्मियों को प्रशिक्षण भी दिया गया है।

No comments:

Post a Comment