मधेपुरा:बदलते मौसम में बच्चों और नवजात का रखें खास ख्याल - ETV BIHAR NEWS
  • Breaking News

    मधेपुरा:बदलते मौसम में बच्चों और नवजात का रखें खास ख्याल


    बदलते मौसम में बच्चों और नवजात का रखें खास ख्याल
    - बच्चों को सर्दी से बचाने को पर्याप्त गरम कपड़े पहनाने चाहिए
    - उनके खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए।
    -बदलते मौसम में बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती
    मधेपुरा,19 नवम्बर। बदलते मौसम में बच्चे, नवजात शिशुओं को बीमारियों से बचाव के लिए खास ख्याल रखना होगा। बच्चों को सर्दी से बचाने के लिए पर्याप्त गरम कपड़े पहनाने चाहिए। उनके खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए।
    सर्दी में बच्चों का खास ख्याल रखना आवश्यक-,
    सिविल सर्जन डॉ. सुभाषचंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि सर्दी में बच्चों का खास ख्याल रखना आवश्यक है। खासकर एक साल के कम उम्र के बच्चे एवं नवजात शिशुओं का। कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता की वजह से बच्चे आसानी से विभिन्न बीमारियों की गिरफ्त में आ जाते हैं। बच्चों को ठंड से बचाना बहुत जरूरी है। इसके लिए उन्हें गरम कपड़े पहनाएं। टोपी, दस्ताने एवं मोजे भी पहना कर रखें। ठंडे फर्श पर नंगे पैर न चलने दें। रात के समय बच्चों का कमरा हल्का गर्म होना चाहिए। खासकर नवजात शिशु का। कमरे का तापमान ऐसा हो कि माता-पिता को कंबल की ज्यादा आवश्यकता न हो। आवश्यकता पड़ने पर कमरे में हीटर का इस्तेमाल भी करना चाहिए।
    बच्चे को बुखार आने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें :
    सिविल सर्जन डॉ. सुभाषचंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि नवजात शिशु में निमोनिया के बहुत से लक्षण दिखायी नहीं देते। इसलिए अगर शिशु को हल्का बुखार आए या जुकाम हो तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। ठंड के मौसम में बच्चों को हरी सब्जियां, फल, सब्जियों का शोरबा, दूध से बनी चीजें और मेवे खिलाने चाहिए। ठंड में बच्चे पानी कम पीते हैं, जिसकी वजह से उन्हें कब्ज की शिकायत हो सकती है। इसलिए समय-समय पर गुनगुना पानी देते रहें। बच्चों को बाहर खेलने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए लेकिन गरम कपड़ों के साथ।
    ऐसे करें बचाव :
    - जिन बच्चों को सांस लेने की दिक्कत होती है, उन्हें धूल, धुएं और फ्लावरिंग से दूर रखें।
    - दो या तीन गरम कपड़े पहनाएं, क्योंकि कपड़ों के बीच जो एयर होती है वह भी ठंड से बचाव करती है।
    - बच्चों की खुराक संतुलित रखें और ठंडा खाना बिल्कुल न दें।
    - विंटर डायरिया होने पर बच्चे को उबला हुआ खाना, तरल खाद्य पदार्थ (लिक्विड डाइट) और अधिक से अधिक ओआरएस दें।

    - मां का दूध पीने वाले बच्चे को ऊपर का दूध न पिलाएं

    नवजात की ऐसे करें देखभालः
    सिविल सर्जन डॉ. सुभाषचंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि नवजात शिशुओं को ठंड में हाइपोथर्मिया होने की संभावना रहती है। जैसे ही बच्चा पैदा हो उसे मुलायम कपड़े से पूरा पोंछने के बाद दूसरे कपड़े से ढक दें। नवजात को पर्याप्त कपड़े पहनाएं। बच्चे को मां की गोद से लगा दें और उसे मां का दूध पिलाएं।

    कोरोना काल में इन उचित व्यवहारों का करें पालन,- 
    - एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
    - सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
    - अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
    - आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
    - छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।

    No comments

    Total Pageviews

    Followers