ब्रेकिंग न्यूज़/खुलासा:पूर्णियां/पूर्व राजद नेता शक्ति हत्याकांड : लेन-देन के विवाद में की गई थी शक्ति मल्लिक की हत्या, तेजप्रताप और तेजस्वी की संलिप्तता नहीं। - ETV BIHAR NEWS
  • Breaking News

    ब्रेकिंग न्यूज़/खुलासा:पूर्णियां/पूर्व राजद नेता शक्ति हत्याकांड : लेन-देन के विवाद में की गई थी शक्ति मल्लिक की हत्या, तेजप्रताप और तेजस्वी की संलिप्तता नहीं।



    पूर्णिया। पूर्व राजद नेता शक्ति मल्लिक हत्याकांड में पुलिस ने बुधवार को सात आरोपितों को गिरफ्तार करते हुए मामले का पर्दाफाश कर दिया है। इस घटना में तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव सहित छह नामजद आरोपितों में किसी की भी संलिप्तता नहीं पाई गई है। एसपी विशाल शर्मा ने बताया कि ऐसी स्थिति में अनुसंधान की प्रक्रिया में उक्त आरोपितों के नाम स्वत: ही हट जाएंगे। ब्याज पर रुपये के लेन-देन के विवाद को लेकर घटना को अंजाम दिया गया है।
    एसपी ने बताया कि सात कर्जदारों ने शक्ति मल्लिक की प्रताड?ा से तंग आने के बाद साजिश रचकर उसकी हत्या की। शक्ति ने कुछ दिनों पहले वीडियो जारी कर आरोप लगाया था कि उससे टिकट के नाम पर 50 लाख रुपये मांगे जा रहे हैं। उसने तेजस्वी और तेजप्रताप यादव द्वारा हत्या करने की आशंका भी जाहिर की थी। एसपी द्वारा मामले की जानकारी देने के लिए आयोजित संवाददाता सम्मेलन में आरोपितों ने बताया कि उन्होंने रावण का वध किया है। इस कारण उन्हेंं सजा की कोई चिंता नहीं है। मामले में पुलिस ने केहाट थाना क्षेत्र स्थित मधुबनी सिपाही टोला निवासी आफताब, केनगर थाना क्षेत्र के सलीम, मीरगंज थाना क्षेत्र के रंगपुरा निवासी मु. जुनैद और मु. अफरोज, मु. यूसूूफ, साहेबगंज के मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के एकाम खान और केहाट सहायक खजांची थाना क्षेत्र के माधोपाड़ा निवासी मु. तनबीर को गिरफ्तार किया गया है। आफताब मामले का मास्टर माइंड है। आरोपितों ने एसपी को बताया कि शक्ति मल्लिक महिलाओं का भी शोषण करता था। इन्होंने राजनीति में भी शक्ति मल्लिक द्वारा उनके दुरुपयोग का आरोप लगाया है। इन्होंने बताया कि शक्ति मल्लिक की वीडियो और ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद उन्होंने घटना को अंजाम दिया, ताकि जांच की दिशा भटक सके। इधर, पुलिस ने शक्ति मल्लिक के घर से कई स्टांप पेपर, शक्ति मल्लिक सहित चार अन्य लोगों के खाली चेक, 36 महिलाओं के आधार कार्ड, रजिस्टर और रुपये गिनने की मशीन बरामद की है। रजिस्टर में लेन-देन का हिसाब रखा जाता था। घटना के मुख्य आरोपित अफताब ने शक्ति से 70 हजार रुपये सूद पर लिए थे। उस दौरान उसने खाली स्टांप पेपर पर दस्तखत कर अंगूठे का निशान भी लगाया था। उसी स्टांप पेपर पर दो लाख 10 हजार रुपये लिखकर शक्ति उससे रुपये वसूलने लगा। उसे शक्ति गाली-गलौच कर प्रताडि़त भी करता था। आफताब ने बताया कि उसे पूरे दिन घर पर बिठाकर रखा जाता था। शक्ति महिलाओं को भद्दी गालियां देने के साथ ही उनके कपड़े तक उतार देता था। इसी आक्रोश के तहत सभी आरोपितों ने घटना को अंजाम दिया। साजिश के तहत आरोपितों ने रात में ही बाथरूम के सहारे उसके घर में प्रवेश किया और सुबह घर का दरवाजा खुलते ही घटना को अंजाम दे दिया।


    आरोपितों ने पुलिस पर भी लगाए आरोप


    आफताब ने एसपी विशाल शर्मा के समक्ष आरोप लगाया कि शक्ति की पुलिस से भी सांठगांठ थी। उसने बताया कि शक्ति के खिलाफ हर महीने दो-तीन आवेदन थाना जाते थे, लेकिन पुलिस रुपये लेकर मामला रफा-दफा कर देती थे। पुलिस को खर्च देकर शक्ति लोगों को प्रताडि़त करता था। पुलिस अगर शुरू से सख्त कदम उठाती तो यह नौबत नहीं आती। उसने कई पुलिस वालों के नाम भी बताए। एसपी ने कहा कि इन आरोपों की जांच की जाएगी।

    No comments

    Total Pageviews

    Followers