सुपौल:होम आइसोलेशन के मरीजों की होती है नियमित जांच - ETV BIHAR NEWS
  • Breaking News

    सुपौल:होम आइसोलेशन के मरीजों की होती है नियमित जांच


    होम आइसोलेशन के मरीजों की होती है नियमित जांच

    अबतक 2.24 लाख लोगों की हो चुकी है कोरोना जांच
    4,488 मरीज ठीक हो चुके हैं
    जारी है कोरोना से संघर्ष-

    सुपौल, 21 अक्टूबर।
    सुपौल जिले में अब तक दो लाख चौबीस हजार एक सौ सनतानवे लोगों की कोरोना जांच हो चुकी है। अबतक 4,488 मरीज ठीक हो चुके हैं। मात्र 167 एक्टिव मामले हैं जिले में। इस बीच कोरोना संक्रमण के नये मामलों में आ रही गिरावट को लेकर जिले के स्वास्थ्य कर्मी सजग हैं । वहीं नियमित रूप से होम आइसोलेशन में रह रहे जिले के एक्टिव मामलों की स्वास्थ्य जांच प्रतिदिन होती है ।

    घर-घर जाकर स्वास्थ्य कर्मी कर रहें हैं नियमित देख-रेख
    डीपीएम बालकृष्ण चौधरी ने बताया कि जिले में स्वस्थ्य विभाग द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुरूप स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा घर-घर जाकर होम आइसोलेशन में रह रहे एक्टिव मामलों की नियमित निगरानी की जा रही है। इससे उनके संबंध में सभी प्रकार की जानकारी मिलती रहती है। गाइडलाइन के अनुरूप निधार्रित प्रपत्र में समय-समय पर कोरोना संक्रमित मरीजों से संबंधित सूचनाएँ यथा तापमान, ऑक्सीजन लेवल, मरीज के लक्षणों के उतार-चढ़ाव, आइसोलेशन के दिनों की संख्या सहित अन्य सभी जानकारियां प्रत्येक दिन एकत्रित की जाती हैं।

    परिवार के सदस्य भी कर रहे हैं सहयोग-
    होम आइसोलेशन में रहने वाले संक्रमित व्यक्ति के परिवार के सदस्य उनसे उचित दूरी बनाते हुए सभी सुविधायें मुहैया कराते रहते हैं। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज भी संक्रमण फैलने से रोकने के लिए मास्क लगाना एवं शारीरिक दूरी बनाये रखने के नियमों का सख्ती से पालन करते पाये जा रहे हैं। आइसोलेशन में व्यक्ति द्वारा उपयोग में लाये जा रहे शौचालय एवं स्नानागार का उपयोग परिवार के अन्य सदस्य नहीं कर रहे हैं।

    कोरोना संक्रमित भी बरत रहे हैं सावधानियां-
    डीपीएम बालकृष्ण चौधरी ने बताया कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुरूप अपना आचरण बनाये हुए हैं। उनके द्वारा प्रत्येक आठ घंटे बाद मास्क बदला जा रहा है। पुराने मास्क को बन्द डिब्बे वाले कूड़ेदान में डाला जा रहा है। परिवार के सदस्यों से दो गज की शारीरिक दूरी बनाये रखा जा रहा है। चिकित्सकों के परामर्श के अनुरूप दवाइयों का नियमित सेवन कर रहे हैं।

    रिपोर्ट निगेटिव आने पर भी कुछ दिनों तक आइसोलेशन में रहने की सलाह
     डीपीएम बालकृष्ण चौधरी ने बताया कि संक्रमित व्यक्ति में कोरोना के लक्षण जैसे बुखार नहीं आना, सांस लेने में किसी प्रकार की परेशनी न होना, मुंह का स्वाद वापस आ जाना, सूखा कफ नहीं निकलना आदि पिछले दस दिनों से दिखाई नहीं पड़ रहे हैं तब कोरोना जांच करवाई जाती है। कोविड- 19 की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी कुछ दिनों तक आइसोलेशन में रहने के सलाह दी जाती है।

    कोरोना काल में  इन उचित व्यवहारों का करें पालन 
    - एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
    - सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
    - अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं।
    - आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें।
    - छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।

    No comments

    Total Pageviews

    Followers